Politics

राष्ट्र को किया समर्पित पीएम ने स्टैच्यू ऑफ यूनिटी

आवाज़-ए-हिन्द टाइम्स, सवांदाता। ‘स्टैच्यू ऑफ यूनिटी’ को राष्ट्र को समर्पित करते हुए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने बुधवार को कहा कि यह भारत का उन सबको जवाब है, जो उसके अस्तित्व पर सवाल करते हैं। मोदी ने सभी नागरिकों से एकजुटता के साथ रहने की अपील के साथ रहने के लिए कहा। यहां 182 मीटर ऊंची सरदार वल्लभभाई पटेल की प्रतिमा का अनावरण करते हुए मोदी ने अपने आलोचकों पर भी निशाना साधा, जिन्होंने सबसे ऊंचा स्मारक बनाने के मिशन को राजनीतिक रंग देने की कोशिश की थी। मोदी ने कहा, ‘स्टैच्यू ऑफ यूनिटी उन सबको याद दिलाने के लिए है, जो भारत वासियो के अस्तित्व और इसकी अखंडता पर सवाल उठाते हैं। यह शाश्वत था, शाश्वत है और हमेशा रहेगा।’ उन्होंने कहा कि प्रतिमा की ऊंचाई युवाओं को याद दिलाएगी कि देश का भविष्य उनकी आकांक्षाओं में है और उनकी आकांक्षाएं इस प्रतिमा के जितनी ऊंची हैं। उन्होंने कहा, ‘इन आकांक्षाओं को पूरा करने का एकमात्र मंत्र ‘एक भारत-श्रेष्ठ भारत’ गुजरात में सरदार वल्लभ भाई पटेल की है। स्टैच्यू ऑफ यूनिटी भी हमारे इंजीनियरिंग और तकनीकी सामर्थ्य का प्रतीक है। नरेंद्र मोदी जी ने कहा कि देश की एकता, विविधता और संप्रभुता को बरकरार रखना एक ऐसी जिम्मेदारी है, जिसे पटेल ने देशवासियों को दिया। उन्होंने कहा, ‘देश को विभाजित करने के हर प्रयास को जवाब देना हमारी जिम्मेदारी है। हमें समाज के रूप में जागरूक और एकजुट रहना होगा।’ प्रधानमंत्री ने उन लोगों पर जमकर निशाना साधा, जिन्होंने सरदार पटेल, छत्रपति शिवाजी महाराज, भीमराव आंबेडकर और अन्य के योगदान को स्मरण करने के उनके मिशन का विरोध किया था। उन्होंने कहा, ‘मुझे आश्चर्य है कि हमारे प्रयास राजनीतिक चश्मे के साथ देखे जाते हैं। महान लोगों की प्रशंसा आलोचना भी लेकर आई है। ऐसा लगता है कि हमने एक बड़ा अपराध किया है। मोदी ने कहा कि ऐसे कई लोग थे, जिन्होंने सोचा था कि आजादी मिलने के बाद भारत जैसा विविधतापूर्ण देश कभी भी एकजुट नहीं रह सकता है, लेकिन सरदार पटेल ने उन्हें गलत साबित कर दिया और यह उनका योगदान था कि देश अब अपनी शर्तों पर दुनिया से मिलता है और आर्थिक और सैन्य महाशक्ति बनने की दिशा में आगे बढ़ रहा है।  प्रधानमंत्री ने कहा, ‘उन्होंने हमारी विविधता को हमारी सबसे बड़ी कमजोरी माना, लेकिन सरदार पटेल ने इसे अपनी सबसे बड़ी ताकत में बदल दिया। भारत उनके द्वारा दिखाए गए मार्ग पर आगे बढ़ रहा है।’ उन्होंने कहा, ‘अगर आज हम गुजरात के कच्छ से नागालैंड के कोहिमा और जम्मू एवं कश्मीर के कारगिल से तमिलनाडु के कन्याकुमारी से जुड़े हुए हैं, तो यह पटेल के मजबूत निश्चय और दृढ़ संकल्प के कारण है।’ 1947 के विभाजन के बाद भारतीय संघ में 550 से अधिक रियासतों को एकीकृत करने में पटेल के प्रयास को याद करते हुए नरेन्दर मोदी जी ने कहा, ‘यदि सरदार पटेल ने ऐसा नहीं किया होता तो भारत देश को सोमनाथ मंदिर में प्रार्थना करने और हैदराबाद के चारमीनार मे जाने के लिए वीजा की जरूरत होती।’

2 Replies to “राष्ट्र को किया समर्पित पीएम ने स्टैच्यू ऑफ यूनिटी

  1. I have noticed you don\’t monetize your blog, don\’t waste your traffic, you can earn extra bucks every month
    because you\’ve got high quality content. If you want to know how
    to make extra bucks, search for: Boorfe\’s tips best adsense alternative

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *